Advertisement
1.Date of birth, Place20 july 1988, Ambedkar nagar (Uttar pradesh)
2.Name Arunima Sinha
3.QualificationMA in Sociology
LLB
A Course in Mountaineering from Nehru Institute of Mountaineering
Honorary Doctorate from the University of Strathclyde
4.AccidentTrain Accident
5.HusbandGaurav singh
6.Climbing & AwardKilimanjaro in Africa
El brush in europe
Costuco in australia
Account Go in Argentina
And Constance Paramed in Indonesia
& Padma shri (2015)
Quick Knowledge

Arunima Sinha was born on 20 July 1988 in Ambedkar Nagar District, Uttar Pradesh, after which Arunima Sinha did a mom training course from Nehru Institute of Mountaineering Uttarkashi, although she was more interested in sports than writing. Has also played volleyball at the national level, although it is a good player of both volleyball and football, for this Arunima also practiced a lot.


Sinha’s family Arunima may be related to a district of Uttar Pradesh, but his father used to be very high engineer, but when Hanuman was only 3 years old, his father left this world and his mother was supervisor in the health department. Used to be

Arunima Sinha’s early career Arunima used to concentrate in playing volleyball and football since childhood, Arunima had played national in volleyball on the strength of her hard work, while playing, she should have a job, then one day the accident with her in a train accident changed her career completely. Arunima Sinha had to go to Delhi to appear in the train accident CISF exam.


On 21 April 22011, Arunima decided to take her journey from Lucknow to Delhi by train Padmavati Express, when the miscreants tried to get rid of gold chains and stains from them while traveling on the train from Lucknow, but when Arjun resisted the miscreants If the miscreants threw Arunima down from the moving train, according to an interview with Arunima, she fell down from Arunima, then she saw the train coming on the other track as well.


But by the time Arunima could remove herself from the track, she crushed her leg and went ahead, according to Arunima, she had been lying there for so long, her mind was working full, she was unable to do anything because of her leg cut. He told in the interview that during that time 49 trains had left from there but no one paid attention to them, then some people of the village had admitted them to the hospital.


Where doctors cut one of his legs to save his life, which settled Arunima’s life but he had to lose a leg. This incident is not less than the world’s biggest shock for a sportsman, this incident gave a huge shock to Arunima. Luck had snatched the opportunity to play volleyball for India from Arunima Sinha


Journey of life after accident After this incident, the Sports Ministry of India announced a grant of ₹ 25000 to Sinha, along with the recommendation of the ISF job, Sports Minister Ajay Maken had given ₹ 200000 to Bhima for treatment, besides Indian Railways. The department offered to do a job in the railways on April 18, 2011, in Aiims delhi, they were fake and at that time they were treated in Aiims for 4 months.

And a private company in Delhi had charged him with artificial footing, although the police had accused Arunima Sinha of committing suicide and crossing the train’s wife wrongly, but when the court’s verdict came on this case, the police were mistaken. Gone


And the court ordered that the Indian Railways see Arunima Sinha as compensation of ₹ 500000 Arunima Sinha has always fought her own battle not only that Arunima Sinha was due to her hard work to be CISF Head Constable in 2012. I passed

Advertisement


Where did arunima sinha get inspiration When Arunima Sinha was in the hospital, she decided to do something new and that was to hoist the flag of her country on the high mountains, giving new energy to Arunima was done by the then big TV show To Do Something. Inspiration was met by Indian cricketer Yuvraj Singh, who showed his passion to play for his country again after defeating a disease like cancer.


After this, when Arunima Sinha left for treatment, she planned to meet Bachendri Pal, the first woman to reach Mount Everest in India, after which Arunima Sinha became obsessed with hoisting her country’s flag, after which her brother Omprakash Was inspired to touch the heights of Mount Everest


How Arunima Sinha became a mountain rohi Arunima Sinha was inspired from all sides to do this impossible feat of doing this Fateh which further strengthened her intentions. She decided to take training from the 2012 Tata Steel Adventure Foundation to Parvat Rohan, then in 2012, Arunima Sinha climbed Everest. To prepare for the climb to Ireland Pick, whose height is 6150 meters, after 2 years of hard work, I decided to reach the Everest peak.


It took 52 days to summit Everest at that time Arunima was 26 years old, after doing this, Arunima Sinha has become such a disabled woman of India who has won Everest. Despite being a disabled, Arunima had so much passion That the summit of Everest became so easy to reach even then he had decided to hoist the national flag of India to climb the highest peak of all continents to fulfill his purpose, due to which Arunima has yet to climb six peaks. completed

Advertisement
Advertisement

Of which Everest in Asia Kilimanjaro in Africa El brush in europe Costuco in australia Account Go in Argentina And Constance Paramed in Indonesia Arunima gets the award The Padma Shri award was awarded by the Government of India in 2015, which is the fourth major honor of India.

Arunima Sinha has also been given the Tension No Adventure Award in 2016.Also, she has been awarded several times at these state levels. In 2018, the first lady was awarded the Uttar Pradesh government, despite Arunima being disabled, climbing Everest. Saluted the spirit of KJ and received a check of 25 lakhs as a reward


Arunima Sinha’s controversy Once Arunima Sinha was stopped from visiting Lord Shiva’s temple, she put this thing on the front of everyone on Twitter and where I did not have so much trouble climbing Mount Everest as during the temple of Mahakal, during Shiva’s darshan and Said that people here have made fun of my disability, due to this Arunima tagged PMO and tagged the Twitter account of Chief Minister State Office.


Book of Arunima Sinha The difficulties in his life have been expressed by Arunima S inha in a book called Born Again the Mountain, that book was published in December 2014 through the hands of our Prime Minister Modi ji. I have written experiences that can motivate many people and I said we are not weak until we give up ourselves

Advertisement

Arunima Sinha Biography In Hindi

Arunima Sinha Biography In Hindi

अरुणिमा सिन्हा का जन्म 20 जुलाई 1988 को हुआ था इनका जन्म उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर डिस्ट्रिक्ट में हुआ था उसके बाद अरुणिमा सिन्हा ने नेहरू इंस्टिट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग उत्तरकाशी से मॉम ट्रेनिंग कोर्स किया था हालांकि इनको पढ़ाई लिखाई से ज्यादा खेलकूद में ज्यादा रुचि थी अरुणिमा ने राष्ट्रीय स्तर पर वॉलीबॉल भी खेला है हालांकि यह वॉलीबॉल और फुटबॉल दोनों की अच्छी खिलाड़ी है इसके लिए अरुणिमा ने काफी प्रैक्टिस भी की थी


सिन्हा का परिवार
अरुणिमा भले ही उत्तर प्रदेश के एक डिस्ट्रिक्ट से से संबंधित हो लेकिन की सोच बहुत ऊंची इनके पिता सेना में इंजीनियर हुआ करते थे लेकिन जब हनुमान सिर्फ 3 साल की थी तभी इनके पिता ने इस दुनिया को छोड़ दिया था और इनकी मां हेल्थ डिपार्टमेंट में सुपरवाइजर हुआ करती थी


अरुणिमा सिन्हा का शुरुआती करियर
अरुणिमा बचपन से ही वॉलीबॉल एवं फुटबॉल खेलने में ध्यान दिया करते थे अरुणिमा अपनी मेहनत के दम पर वॉलीबॉल में नेशनल खेल चुकी थी खेलते समय ही इन्होंने नौकरी करनी चाहिए फिर एक दिन ट्रेन हादसे में इनके साथ हुई दुर्घटना ने उनके करियर को पूरी तरह से बदल कर रख दिया था अरुणिमा सिन्हा ट्रेन एक्सीडेंट सीआईएसफ की परीक्षा में शामिल होने के लिए अरुणिमा को दिल्ली जाना था

21 अप्रैल 22011 को अरुणिमा ने लखनऊ से दिल्ली जाने वाली ट्रेन पद्मावती एक्सप्रेस से अपना सफर तय करने का निर्णय लिया जब रहनुमा लखनऊ से तो ट्रेन में सफर के दौरान बदमाशों ने इनसे सोने की चैन एवं दाग छुड़ाने की कोशिश की लेकिन जब अर्जुन बदमाशों का विरोध किया तो बदमाशों ने अरुणिमा को चलती ट्रेन से नीचे फेंक दिया अरुणिमा के एक इंटरव्यू के अनुसार अरुणिमा से नीचे गिरी तो उन्होंने देखा कि दूसरे ट्रैक पर भी ट्रेन आ रही है

लेकिन जब तक अरुणिमा खुद को पटरी से हटा पाती इनके पैर को कुचलती हुई आगे बढ़ गई अरुणिमा के अनुसार वह इतनी देर तक वहां पर पड़ी रही थी उनका दिमाग पूरा काम कर रहा था बस उनकी टांग कटने की वजह से कुछ नहीं कर पा रही थी उन्होंने इंटरव्यू में बताया उसी दौरान 49 ट्रेन वहां से निकल गई थी लेकिन किसी ने उन पर ध्यान नहीं दिया फिर कुछ गांव के लोगों ने इनको हॉस्पिटल में भर्ती कराया था

जहां पर डॉक्टरों ने इनकी जान बचाने के लिए इनके एक पैर को काट दिया जिससे अरुणिमा की जिंदगी तो बस गई लेकिन इनको एक पैर गवाना पड़ा यह एक खिलाड़ी के लिए दुनिया के सबसे बड़े सदमे से कम नहीं इस घटना ने अरुणिमा को बहुत बड़ा झटका दिया था अरुणिमा सिन्हा से किस्मत ने भारत के लिए वॉलीबॉल खेलने का मौका छीन लिया था


दुर्घटना के बाद की जिंदगी का सफर
इस घटना के बाद भारत के खेल मंत्रालय ने सिन्हा को ₹25000 देने की घोषणा कर दी इसके साथ ही आई एस एफ की नौकरी देने की सिफारिश की गई खेल मंत्री अजय माकन के द्वारा भीम को इलाज के लिए ₹200000 दिए थे इसके अलावा भारतीय रेल विभाग में रेलवे में नौकरी करने का ऑफर दिया 18 अप्रैल 2011 को Aiims delhi मैं इनको नकली लगाया गया और उस टाइम पर 4 महीने तक Aiims में इनका इलाज चलाया गया था

एवं दिल्ली के एक निजी कंपनी ने इनको आर्टिफिशियल पैर लगवाने का खर्चा दिया था हालांकि पुलिस ने अरुणिमा सिन्हा पर आत्महत्या करने और ट्रेन की पत्नी गलत तरीके से पार करने के आरोप लगाए थे लेकिन जब इस केस पर कोर्ट का फैसला आया तो पुलिस को गलत ठहराया गया

और और कोर्ट ने आदेश दिया की भारतीय रेल को अरुणिमा सिन्हा को ₹500000 की राशि मुआवजे के रूप में देखी अरुणिमा सिन्हा ने अपनी लड़ाई हमेशा खुद ही लड़ी है इतना ही नहीं अरुणिमा सिन्हा अपनी मेहनत की बदौलत सन 2012 में सीआईएसफ हेड कांस्टेबल मैं होने वाली परीक्षा मैं पास हुई थी


अरुणिमा सिन्हा को कहां से मिली प्रेरणा
जब अरुणिमा सिन्हा अस्पताल में थी तो उन्होंने कुछ नया कर दिखाने का फैसला लिया और वह था ऊंचे पर्वतों पर अपने देश का झंडा फहराना अरुणिमा को नई ऊर्जा देने का काम उस समय चल रहे बिग टीवी शो टू डू समथिंग ने किया था इनको दूसरी सबसे बड़ी प्रेरणा भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह से मिली थी जिन्होंने कैंसर जैसी बीमारी को हराकर फिर से अपने देश के लिए खेलने का जज्बा दिखाया था

इसके के बाद अरुणिमा सिन्हा जब इलाज कराने के बाद निकली तो इन्होंने भारत की पहली महिला माउंट एवरेस्ट पर पहुंचने वाली बचेंद्री पाल से मिलने की योजना बनाई इसके बाद अरुणिमा सिन्हा पर अपने देश का झंडा फहराने का जुनून सवार हो गया इसके बाद इनके भाई ओमप्रकाश ने माउंट एवरेस्ट की ऊंचाइयां छूने के लिए प्रेरित किया था


अरुणिमा सिन्हा कैसे बनी पर्वत रोही
अरुणिमा सिन्हा को हर तरफ से इस फतेह को करने की इस नामुमकिन कारनामे करने की प्रेरणा मिली जिससे उनके इरादे और मजबूत हो गए इन्होंने 2012 टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन से पर्वत रोहन प्रशिक्षण लेने का फैसला किया था फिर साल 2012 में अरुणिमा सिन्हा ने एवरेस्ट की चढ़ाई करने की तैयारी के लिए आयरलैंड पिक पर चढ़ाई की जिसकी ऊंचाई 6150 मीटर है 2 साल तक कड़ी मेहनत के बाद एवरेस्ट चोटी पर पहुंचने का मन बनाया

इनको एवरेस्ट sumbit करने में 52 दिन लगे थे उस समय अरुणिमा की उम्र 26 साल की थी ऐसा करने के बाद अरुणिमा सिन्हा भारत की ऐसी विकलांग महिला बन गई है जिन्होंने एवरेस्ट की जीत हासिल की है एक विकलांग होने के बाद भी अरुणिमा में इतना जज्बा था कि एवरेस्ट की चोटी तब भी पहुंचना इतना आसान हो गया इन्होंने अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए सभी महाद्वीपों के सर्वोच्च शिखर पर चढ़ने भारत के राष्ट्रीय ध्वज को छोटी पर फहराने का निर्णय लिया था जिसके चलते अरुणिमा ने अभी तक छह चोटियों पर चढ़ने का काम पूरा कर लिया है

जिनमें से एशिया में एवरेस्ट
अफ्रीका में किलिमंजारो
यूरोप में एल ब्रश
ऑस्ट्रेलिया में कॉस्टयूको
अर्जेंटीना में अकाउंट गो
और इंडोनेशिया में कांस्टेंस पैरामेड
अरुणिमा को मिले पुरस्कार
भारत सरकार की तरफ से 2015 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया जो कि भारत का चौथा बड़ा सम्मान है

अरुणिमा सिन्हा को 2016 में टेंशन नो एडवेंचर अवार्ड भी दिया गया है इसके अलावा भी इन राज्य स्तर पर कई बार सम्मानित किया जा चुका है सन 2018 में प्रथम महिला पुरस्कार से सम्मानित किया गया उत्तर प्रदेश सरकार ने अरुणिमा के विकलांग होते हुए भी एवरेस्ट पर चढ़ने के जज्बे को सलाम किया और इनाम के तौर पर 25 लाख का चेक इन्हें मिला


अरुणिमा सिन्हा के विवाद
एक बार अरुणिमा सिन्हा को भगवान शिव के मंदिर में जाने से रोक दिया गया था इस बात को इन्होंने ट्विटर पर सबके सामने रखा और कहां की मुझे इतनी तकलीफ माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने में नहीं हुई जितने महाकाल के मंदिर में शिव जी के दर्शन दौरान हुई और कहा कि यहां के लोगों ने मेरी अपंगता का मजाक बनाया है इसके चलते अरुणिमा ने पीएमओ टैग किया और मुख्यमंत्री राज्य के ऑफिस के ट्विटर अकाउंट टैग किया


अरुणिमा सिन्हा की किताब
अपनी जिंदगी में कठिनाइयों उस समय को अरुणिमा सिन्हा ने एक किताब में व्यक्त किया है जिसका नाम बोर्न अगेन द माउंटेन है उस किताब को दिसंबर 2014 को हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी के हाथों से पब्लिश कराया गया था अरुणिमा का कहना है कि मैंने इस किताब में अपने अनुभव लिखे हैं जो बहुत लोगों को मोटिवेट कर सकते हैं और मैंने कहा हम जब तक कमजोर नहीं है जब तक हम खुद हार नहीं मान लेते

Advertisement

1 Comment

Subhash Chandra Bose Biography IN Hindi And English - successfullstroy.com · July 10, 2020 at 4:18 am

[…] Bhimrao Ambedkae struggle Arunima Sinha ki kahani zaroor padhe Must […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *